Saturday, August 28, 2010

हुनर कुछ भी नहीं है बस ज़रा औज़ारबाज़ी है,

परिन्दे हौसलों के आसमां को नाप आते हैं।
जहां तूफ़ान ने तोड़ा वहीं पर घर बनाते हैं।।

गो गिद्धों से भरी है खौफ़ की बेदर्द ये दुनिया,
हंसी होंठों पै लेकर हम जहां को मुंह चिढ़ाते हैं।।

उन्हें हर बात पर दुनिया के मर मिटने की हसरत है,
नज़र जब इश्क़ की पड़ती है तो नज़रें चुराते हैं।।

मुझे वो चाहते हैं बस ज़रा कहने से डरते हैं ,
मुहब्बत तोड़ती है दिल , सहमकर दिल बचाते हैं।

हुनर कुछ भी नहीं है बस ज़रा औज़ारबाज़ी है,
तुम्हारे ख्वाब के सोने से हम गहने बनाते हैं।।

यक़ीन है दोस्ती पर ,पर जरा दुनिया से डरते हैं
ये दुनिया दोस्तों की है , मेरे दुश्मन बताते हैं।

न फूलों के हसीं गुलशन ,ना बागीचे ,न दहकां हैं ,
पड़े बंजर में ‘ज़ाहिद’ मौज़ के कौवे उड़ाते हैं।।



27.07.10, 5810, 5.8.10

29 comments:

  1. परिन्दे हौसलों के आसमां को नाप आते हैं।
    जहां तूफ़ान ने तोड़ा वहीं पर घर बनाते हैं।।
    Parindon ke hausale parindehi jaane!
    Rachana to nihayat khoobsoorat hai!

    ReplyDelete
  2. उन्हें हर बात पर दुनिया के मर मिटने की हसरत है,
    नज़र जब इश्क़ की पड़ती है तो नज़रें चुराते
    waah zahid ji.....umda!

    ReplyDelete
  3. न फूलों के हसीं गुलशन ,ना बागीचे ,न दहकां हैं ,
    पड़े बंजर में ‘ज़ाहिद’ मौज़ के कौवे उड़ाते हैं।।
    laajawab sir ji.. hats off to u..!!!

    ReplyDelete
  4. मोह्तरम जनाब कुमार ज़ाहिद साहब
    आदाब अर्ज़ !
    क्या मुरस्सा ग़ज़ल है हुज़ूर !
    लफ़्ज़ों के नगीने जड़ दिए हैं ।
    पूरी ग़ज़ल कोट करने लायक है …
    गो गिद्धों से भरी है खौफ़ की बेदर्द ये दुनिया,
    हंसी होंठों पै लेकर हम जहां को मुंह चिढ़ाते हैं।।

    कीचड़ में कमल का एक अछूता रूप है …
    वाह वाऽऽह !
    हुनर कुछ भी नहीं है बस ज़रा औज़ारबाज़ी है,
    तुम्हारे ख्वाब के सोने से हम गहने बनाते हैं।।

    क्या बात है जनाब !
    हमारा तो धंधा ख़तरे में लगने लगा है ।
    वाकई , ग़ज़ल तो ये होती है ।
    प्रेरणाएं ले रहे हैं आपसे …
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  5. वाह वाऽऽह !
    क्या बात है

    ReplyDelete
  6. न फूलों के हसीं गुलशन ,ना बागीचे ,न दहकां हैं ,
    पड़े बंजर में ‘ज़ाहिद’ मौज़ के कौवे उड़ाते हैं।।
    ग़ज़ल की इक इक बात को महसूस कर रही हूँ और क्या लिखूं .....

    ReplyDelete
  7. हुनर कुछ भी नहीं है बस ज़रा औज़ारबाज़ी है,
    तुम्हारे ख्वाब के सोने से हम गहने बनाते हैं।।

    bahut khoob!!!!

    ReplyDelete
  8. zaahid bhaayi.....vaah.....irshad....aur padhiye naa....

    ReplyDelete
  9. wah! wah!
    behad sunder :D

    http://liberalflorence.blogspot.com/

    ReplyDelete
  10. bahut achha
    aap mere blog m aaye n aapne mera margdarsan kiya aapko bahut dhanyvad
    bas isi tarah apna aashish banaye rakhe
    dhanyvad

    ReplyDelete
  11. भाई जाहिद आप गजलेँ अच्छी कहतेँ हैँ।कमेँट करने का तरीका पसन्द आया।

    ReplyDelete
  12. Hi Zahid,

    It's a wonderful creation. Am short of words to say anything about it. The lines have beautifully defined the realities [ bitter rather ]. Each and every couplet is so perfect that there is nothing left to say beyond it.

    I very much liked the poem/ghazal

    Regards,
    ..

    ReplyDelete
  13. बहुत ख़ूबसूरत और शानदार ग़ज़ल लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    ReplyDelete
  14. Eid mubarak ho! Aapki har tamanna poori ho aur daman me khushiyan chhalak uthen!Aameen!

    ReplyDelete
  15. परिन्दे हौसलों के आसमां को नाप आते हैं।
    जहां तूफ़ान ने तोड़ा वहीं पर घर बनाते हैं।।
    कितने हौसले का शेर है...वाह
    यक़ीन है दोस्ती पर ,पर जरा दुनिया से डरते हैं
    ये दुनिया दोस्तों की है , मेरे दुश्मन बताते हैं।
    कमाल का शेर है जनाब.
    ईद की मुबारकबाद.

    ReplyDelete
  16. हुनर कुछ भी नहीं है बस ज़रा औज़ारबाज़ी है,
    तुम्हारे ख्वाब के सोने से हम गहने बनाते हैं।।
    kya baat hai.Bahut Khub.
    Eid Mubarak.

    ReplyDelete
  17. परिन्दे हौसलों के आसमां को नाप आते हैं।
    जहां तूफ़ान ने तोड़ा वहीं पर घर बनाते हैं।।

    sahi likha aapne kyonki hausla se hi kuchh bhi kaam ko anjaam diya ja sakta hai ........

    ReplyDelete
  18. गो गिद्धों से भरी है खौफ़ की बेदर्द ये दुनिया,
    हंसी होंठों पै लेकर हम जहां को मुंह चिढ़ाते हैं।।

    यही वो बात है जिससे लोग चूक जाते हैं। प्रायः कठिन सिद्धि है यह।

    मुझे वो चाहते हैं बस ज़रा कहने से डरते हैं ,
    मुहब्बत तोड़ती है दिल , सहमकर दिल बचाते हैं।

    पर बचता कहां है कुछ भी । वो कहते हैं न इश्क पर जोर नहीं है ...

    ReplyDelete
  19. हुनर कुछ भी नहीं है बस ज़रा औज़ारबाज़ी है,
    तुम्हारे ख्वाब के सोने से हम गहने बनाते हैं।।


    वाह...वाह....!!

    .गज़ब का शे'र कहा है जाहिद जी ......!!

    ReplyDelete
  20. परिन्दे हौसलों के आसमां को नाप आते हैं।
    जहां तूफ़ान ने तोड़ा वहीं पर घर बनाते हैं।

    वाह!
    बहुत ख़ूबसूरत मतला है
    इस बलंद हौसले का जवाब नहीं ,इस जज़्बे को सलाम

    ReplyDelete
  21. हुनर कुछ भी नहीं है बस ज़रा औज़ारबाज़ी है,
    तुम्हारे ख्वाब के सोने से हम गहने बनाते हैं।।

    वाह!वाह! क्या खूब लिखा है आप ने!

    पूरी ग़ज़ल ही खूबसूरत कही है.

    ReplyDelete
  22. परिन्दे हौसलों के आसमां को नाप आते हैं।
    जहां तूफ़ान ने तोड़ा वहीं पर घर बनाते हैं।।


    हुनर कुछ भी नहीं है बस ज़रा औज़ारबाज़ी है,
    तुम्हारे ख्वाब के सोने से हम गहने बनाते हैं।।

    कुमार साहब सबसे पहले तो इतनी देर से यहाँ दस्तक देने पर तहे दिल से शर्मिंदा हूँ...न जाने कैसे आपकी ये पुरअसर गज़ल मेरी नज़रों से चूक गयी...उम्मीद है मुझे इस देरी से माफ करेंगे.

    ग़ज़ल के मतले से मकते तक का सफर निहायत खूबसूरत है, आपने कमाल के शेर कहें हैं...मेरी दिली दाद कबूल करें..

    नीरज

    ReplyDelete
  23. गो गिद्धों से भरी है खौफ़ की बेदर्द ये दुनिया,
    हंसी होंठों पै लेकर हम जहां को मुंह चिढ़ाते हैं ..

    बहुत ही खूबसूरत ग़ज़ल है .... ये शेर तो ख़ास कर पाबूत पसंद आया ... ऐसे ही जीना चाहिए ....

    ReplyDelete
  24. उन्हें हर बात पर दुनिया के मर मिटने की हसरत है,
    नज़र जब इश्क़ की पड़ती है तो नज़रें चुराते हैं।।

    मुझे वो चाहते हैं बस ज़रा कहने से डरते हैं ,
    मुहब्बत तोड़ती है दिल , सहमकर दिल बचाते हैं।
    हुनर कुछ भी नहीं है बस ज़रा औज़ारबाज़ी है,
    तुम्हारे ख्वाब के सोने से हम गहने बनाते हैं।।
    wakai sabne sahi farmaaya poori gazal hi laazwaab hai aapki ,man ko chhoo gayi .

    ReplyDelete
  25. बहुत खूब लिखते हैं आप ,पहली बार पढ़ा ,अच्छा लगा । शुभकामनायें

    ReplyDelete